मंगलवार, 29 अगस्त 2023

स्टेप भाभी के साथ सेक्स कहानी | भाभी सेक्स कहानी

 स्टेप भाभी के साथ सेक्स कहानी

मैंने अपनी सेक्स की शुरूआत अपनी स्टेप भाभी की ठुकाई आज से दस साल पहले करके की थी।

नमस्ते दोस्तो, मेरा नाम आशीष है। मेरी उम्र तीस साल की है।
चलिए दोस्तो, पहले मैं आपको अपने परिवार के बारे में बताता हूं। मेरे परिवार में मेरी भाभी, मेरा बड़ा भाई और भईया रहते हैं। मेरी ये वाली भाभी मेरे भईया की दूसरी शादी से हैं। बहुत सुंदर और सेक्सी हैं। उनके लंबे और काले बाल हैं और उनके स्तन काफी बड़े हो गए हैं।




मेरी भाभी की गांड फूली हुई है। मेरे भईया रोज मेरी भाभी की गांड मारते हैं। माफ करना दोस्तो, मैंने अपनी भाभी का नाम नहीं बताया, मेरी भाभी का नाम सोनल है। जब भाभी की चूत मारी थी, तब मेरी भाभी की उम्र 39 साल की थी। उनका फिगर 34-26-38 का है। उनके इस फिगर को देख कर मेरा लौड़ा रोज खड़ा हो जाता था। ऊपर से वह बहुत खूबसूरत थीं तो वह मुझे मेरी भाभी नहीं, मुझे अपनी पत्नी जैसी लगती थीं।

मेरी भाभी को आसपास के सभी लोग चोदना चाहते थे। लेकिन मेरी भाभी केवल परिवार वालों से ही चुदवाती हैं। जी हां, परिवार के मर्द ही उनको चोदते हैं, ये खुलासा आपको कहानी के अंत में हो जाएगा।

जब मैं 19-20 साल का था, जब मैंने पहली बार अपनी भाभी को जमकर चोदा था। उस दिन भईया घर से बाहर गए हुए थे और मेरा भाई कॉलेज के टूर पर गया था। घर पर केवल मैं और मेरी भाभी थे।

मैंने उस दिन तय कर लिया था कि आज रात अपनी भाभी को अपना बना लूंगा उन्हें अपनी पहली पत्नी का दर्जा दूंगा। रात को जब मैं सेक्स फिल्में और कहानी पढ़कर घर आया, तो मुझे मेरी भाभी मेरी पत्नी के रूप में दिख रही थीं और ऐसा लग रहा था कि उन्हें अभी पकड़ कर चोद दूं।

उस समय मेरी भाभी खाना बना रही थीं। खाना बनाने के बाद उन्होंने मुझे आवाज दी- आशीष आ जा, खाना खा ले बेटा।

मैंने अपनी भाभी के साथ खाना खाया और अपने कमरे में चला गया। भाभी भी सारा काम खत्म करके अपने कमरे में चली गईं।

मुझे रात को नींद नहीं रही थी। रात को जब मैं अपने भाभी के कमरे में गया तो उन्हें देखकर मेरा लौड़ा खड़ा हो गया। भाभी ने नाइटी पहनी हुई थी। मैंने भाभी के होंठों को देखा और उनके होंठों पर अपने होंठ लगा दिए और जोर जोर से किस करने लगा। इससे मेरी भाभी की आंख खुल गई।

उन्होंने मुझे यह करता देख कर पीछे धक्का दिया और कहा- मैं तेरी भाभी हूं। यह सब गलत है, जा अपने कमरे में चला जामैं तेरे साथ ऐसा वैसा कुछ नहीं करूंगी।

मैंने कहा- भाभी तो तू मेरी है पर भाभी से पहले तू एक औरत है। और मैं तेरे बेटे से पहले एक मर्द हूं। इसमें कुछ भी गलत नहीं है, मर्द हमेशा औरत को चोदता है। आज मैं तुझे चोद कर अपनी पहली पत्नी का दर्जा दूंगा। तू बहुत खूबसूरत और सेक्सी है। आज मैं तुझे नहीं छोडूंगा, तेरी गांड में अपना लंड दे कर रहूंगा।

कुछ देर की ना नानुकुर के बाद जब मैंने अपना लम्बा लंड खोल कर भाभी के सामने लहराया, तो मेरी भाभी मेरा लंड देख कर हैरान रह गईं। उन्होंने मेरे लंड को बड़ी बेताबी से देखा। मुझे मालूम था कि मेरे भईया का लंड मुझसे काफी छोटा है।

अब भाभी भी लंड देख कर खुश हो गई थीं। चूंकि उनको भी रोज रात को लंड की आदत थी। भाभी ने कहा- तुमको मुझे चोदने के लिए मुझे पकड़ना होगा।
यह कह कर भाभी कमरे में पलंग के चारों तरफ भागने लगीं। मैंने बड़ी मेहनत के बाद आखिरकार भाभी को पकड़ ही लिया।

उसके बाद मैंने भाभी को अपनी बांहों में जकड़ा और उन्हें लिप किस करने लगा। अब भाभी भी मेरा साथ देने लगीं। वह भी मुझे लिप किस करने लगीं। किस करते करते मैं भाभी के स्तनों को भी दबा रहा था। भाभी को अपने मम्मों को मिंजवाने में बड़ा मजा रहा था। वह भी बड़े मजे से मुझे किस कर रही थीं।

मैंने भाभी को बेड से उठाकर उन्हें खड़ा कर दिया औरउनकी नाइटी खोल दी। मेरी भाभी ने भी मेरी शर्ट खोल दी। मेरी भाभी अब मेरे सामने पैंटी और ब्रा में थीं। दोस्तों मैंने कभी अपनी भाभी को पैंटी और ब्रा में इस तरह नहीं देखा था। आज मैंने पहली बार भाभी को इस तरह से देखा था।

उसके बाद मैं अपनी भाभी को फिर से किस करने लगा और उनके बालों पर हाथ फेरने लगा। भाभी के बाल बहुत लंबे थे इसलिए मैं उन्हें खींच भी रहा था।
वहआह आआहह …’ कर रही थीं।

मैं 5 मिनट तक भाभी को किस करता रहा और उनके मुँह का सारा पानी अपने मुँह में ले लिया। भाभी को किस करने के बाद में उनके स्तनों को दबाने लगा और चूमने लगा।

थोड़ी देर बाद मैंने उनकी ब्रा को एक झटके में फाड़ दिया। अब मेरी भाभी मेरे सामने ऊपर से पूरी नंगी थीं। मैंने अपनी भाभी के स्तनों का दूध पीना शुरू किया।

भाभी जोर जोर से आवाज निकाल रही थीं- आह आईऔर जोर से दबा कर पीआईपी ले बेटायह तेरे लिए ही हैं। बचपन में अपनी भाभी का बहुत दूध पिया था। अब जवानी में भी चूस ले।।

थोड़ी देर बाद मैंने भाभी को दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और उनकी पैंटी भी फाड़ दी। भाभी ने भी मेरे सारे कपड़े केवल अंडरवियर को छोड़कर उतार दिए।

अब मेरे सामने मेरी भाभी पूरी नंगी खड़ी थीं। जब मैंने भाभी के नंगे बदन को देखा, तो मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कि कोई मेरे सामने एक ही बहुत खूबसूरत लड़की खड़ी हो।

फिर मैंने भाभी को गोदी में उठाया और बेड पर पटक दिया। बेड पर पटकने के बाद मैंने उनकी चुत को देखा, उनकी चुत पर एक भी बाल नहीं था।

जब मैंने उनसे चूत की झांटों के बारे में पूछा कि आपकी चुत पर बाल क्यों नहीं हैं?

तो उन्होंने कहा कि तुम्हारे भईया मुझे रोज चोदते हैं, इसलिए मैं सुबह ही अपने बाल साफ कर लेती हूं।

फिर मैंने भाभी के दोनों पैर खोले और इशारा किया। मैंने उनका इशारा समझ लिया और उनकी चुत में अपना सिर दे दिया। मैं जोर जोर से भाभी की चुत चाटने लगा। उनकी चूत बिल्कुल मक्खन जैसी मुलायम थी। मैं अपनी भाभी की चुत से निकलता हुआ लिसलिसा पानी पी रहा था और वह जोर-जोर से आवाज निकाल रही थीं।

आह उई आई मर गई अम्माचोद दे मादरचोदअपनी भाभी की चुत का सारा पानी पी लेआह आई आई रेमर गई मैं तो।।

उनकी आवाज ने मेरे अन्दर उन्हें चोदने का जुनून बना दिया था। मैंने 10 मिनट के अन्दर उनकी चुत का सारा पानी अपने मुँह में पी लिया। उसके बाद मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया। मेरा लौड़ा अंडरवियर से बाहर निकलने के बाद मेरी भाभी ने उसे देख कर कहा कि तेरा लौड़ा तो तेरे बाप से भी ज्यादा मोटा और लम्बा है। आज तू इसे मेरी चुत में डाल दे, जिससे मेरी चुत की प्यास शांत हो जाए। अपनी भाभी की चुत में घुसा दे बेटा।

फिर मैंने भाभी की चुत को ठुकाई के लिए खोला और निशाना लगाते हुए एक ही झटके में अपना आधा लौड़ा भाभी की चूत में घुसा दिया।
भाभी एकदम से हुए इस दर्द से चीख उठीं।

मैंने उनकी चीख पर ध्यान ही नहीं दिया और अपना बचा हुआ आधा लौड़ा दूसरे झटके में अन्दर घुसा दिया।

पूरा लंड घुसने के बाद भाभी और जोर से चीख उठीं। अब मेरा पूरा का पूरा लौड़ा भाभी की चूत में घुसा हुआ थाऔर मैं लंड पेल कर रुक गया।

भाभी दर्द से चीख रही थीं, क्योंकि मेरा लौड़ा लंबा और मोटा था। फिर मैंने धीरे-धीरे धक्का मारना शुरू किया। भाभी दर्द से कलपते हुए भी चोदने के लिए कह रही थीं- आह उम्म्हअहहहयओहअई आहचोद अपनी भाभी को बेटा चोद दे।

मैंने आराम आराम से धक्का मारना शुरू किया। भाभी को दर्द हो रहा था इसलिए मैंने उनका एक पैर उठाया और अपने कंधे पर रख दिया। उसके बाद मैंने भाभी की ठुकाई जोर जोर से करनी शुरू किया।

भाभी की सेक्सी आवाजें रुकने का नाम नहीं ले रही थीं। वे अब तक एक बार झड़ चुकी थीं। थोड़ी देर की धकापेल ठुकाई के बाद मैंने भाभी कीचुत में से लौड़ा निकाला और उनके मुँह में दे दिया।

भाभी ने मेरा लौड़ा 10 मिनट तक चूसा। जब भाभी मेरा लौड़ा चूस रही थीं, तब मैंने उनकी चुत में उंगली की।

लौड़ा चूसने के बाद मैंने भाभी की चुत का माल उन्हें खिलाया। फिर किस करने लगा।

किस करने के बाद मैंने भाभी की घोड़ी बना कर ठुकाई की। कुछ मिनट की ठुकाई के बाद भाभी फिर से झड़ गईं। बाद में मैं भी झड़ गया। इस बार मैंने अपना सारा पानी में भाभी की चुत में छोड़ दिया।

दो बार भाभी की ठुकाई करने के बाद मैं सोने के लिए अपने कमरे में जाने लगा। तभी भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और खींच कर मुझे तरह तरह की गाली देने लगीं और कहने लगीं- मेरी गांड क्या तेरा बाप मारेगासाले गांड मारफिर सोने जाना।

मैंने भाभी की गांड चाटना शुरू किया। भाभी की गांड चाटते चाटते बीच में मैं उनकी गांड में उंगली भी कर रहा था। भाभी फिर से आवाज निकालने लगीं- आआह अई अई आह मर गई मैं तो!
कुछ देर तक गांड चाटने के बाद मैंने अपना लौड़ा उनकी गांड में दे दिया और उनकी गांड चोदने लगा।

मैं भाभी के चूचे पकड़ कर कहने लगा- सोनल सालीआज से तू मेरी रखैल है। मैं तुझे जब चाहे चोद दूंगा। तुझे चोदे बिना मैं कभी नहीं सोऊंगा।

गांड मारने के बाद में भाभी ने पूछा- तू मुझे अपने बच्चे की भाभी कब बनाएगा।
मैंने भाभी से कहा- मैं तुझे 40 दिन में अपने बच्चे की भाभी बना दूंगा।

उस रात मैंने भाभी की 4 बार ठुकाई की और उन्हें मैंने अपनी पहली पत्नी बना दिया।

अगले दिन जब हम सुबह उठेतो मैंने भाभी से कहा- भईया मुझ पर बहुत गुस्सा करेंगे, अगर मैंने आपको अपने बच्चे की भाभी बना दिया।
तब भाभी ने कहा- हमारा परिवार चुत मारने वाला परिवार हैतुझसे पहले तेरा भाई मुझे चोद चुका है। तेरे भईया को यह बात पता है कि उनके बाद मैं तेरे भाई से चुत चुदवाती हूं। अगर तूने मुझे माँ बना दिया, तो कोई दिक्कत नहीं।

फिर मैंने भाभी को लिप किस किया और पूछा- तुम्हें सबसे पहले किसने चोदा था?
भाभी ने कहा- सबसे पहले मुझे तेरे बाप ने चोदा था। तेरे बाप ने मुझे रुला दिया था।
फिर उसके बाद?”
भाभी ने कहा- मैंने तेरे बाप से शादी की थी। उस साले ने मुझे चोद चोद कर मार दिया था। अगर तुम मुझे अपने बाप के सामने भी चोदेगा, तो उसे कोई दिक्कत नहीं होगी।

उसके बाद मैंने फिर से सुबह अपनी भाभीकी ठुकाई कर डाली। अब मैं अपनी भाभी को रोज़ चोदता हूं। अब तो भाभीएकदम बिंदास नंगी ही घर में घूमती हैं। मैंने अपने भईया के साथ भी उनको चोदा है। उसकी कहानी मैं बाद में लिखूंगा।

इस तरह मैंने अपनी भाभी की ठुकाई करके अपनी सेक्स सफर की शुरूआत की।

 
सेक्स कहानियां वेबसाइट केवल 18 साल से अधिक उम्र के लिए बनाया गया है,इस वेबसाइट में सेक्स की कहानियां शेयर किया जाता है जो केवल 18 साल से अधिक के उम्र के लोगो के लिए बनाया गया है।